चाची

बच्चों की दोस्त और शिक्षकों की सहायक - हमारी चाची.

Subscribe

क्वॉरंटीन स्कूल – शिक्षण सुझाव पुड़िया #3

#self-learning #tips #quarantine-school

कितना सुंदर रविवार है आज। यह सोचने का अच्छा समय है कि लाल पत्तियों वाले पौधे अपना भोजन कैसे बनाते हैं, दूध किलो में क्यों बेचा जाता है और आपका मोबाइल फोन कैसे जानता है कि आप कहां हैं!

---

क्वॉरंटीन स्कूल – शिक्षण सुझाव पुड़िया
आकर्षक, रोमांचक और दिमाग़ की बत्ती खुजा देने वाले सीखने के ट्रिगर!
शुरुआत बुधवार, 1 अप्रैल, 2020 से
देखिए ज़रा!

बच्चे ऊब गए हैं, शिक्षक उपलब्ध नहीं हैं और माता-पिता थक चुके हैं।

चाची मदद करने के लिए हाज़िर है!

इस सुनहरे इतवार के दिन हम आप के लिए लाए हैं क्वॉरंटीन स्कूल श्रृंखला की तीसरी शिक्षण सुझाव पुड़िया। वादे अनुसार, तीन नए लर्निंग ट्रिगर्स हाज़िर हैं। इन्हें आदर्श रूप से माता-पिता या शिक्षकों द्वारा बच्चों के साथ बातचीत की शुरुआत के रूप में उपयोग किया जाना चाहिए। बच्चों की रूचि या आपके इच्छित शिक्षण उद्देश्य के आधार पर आप जो चाहें वो ट्रिगर चुन सकते हैं और अन्वेषण की यात्रा की ओर प्रारम्भ कर सकते हैं!

नीचे दिए लिंक से आप किसी भी ट्रिगर को खोल सकते हैं –

  1. लाल पत्तियां अपना भोजन कैसे बनाती हैं?
  2. किलोग्राम में दूध क्यों बेचा जाता है?
  3. आपका मोबाइल फोन कैसे जानता है कि आप कहां हैं?

लाल पत्तियां अपना भोजन कैसे बनाती हैं? #

अगर पौधों के बारे में एक बात है जो मुझे यकीन है कि आप जानते हैं, तो वह है कि पौधे अपने भोजन को प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया से बनाते है। और इस प्रक्रिया के लिए आवश्यक वर्णक को क्लोरोफिल कहा जाता है। लेकिन क्लोरोफिल तो हमेशा हरे रंग का होता है तो …

लाल पत्तियों वाले पौधे अपना भोजन कैसे बनाते हैं?!

अब हमारे सामने तीन संभावनाएँ हैं -

  1. लाल पत्तियों वाले पौधे प्रकाश संश्लेषण से नहीं गुजरते हैं। वे अपना भोजन किसी अन्य प्रक्रिया से बनाते हैं।
  2. लाल पत्तियों वाले पौधों में क्लोरोफिल होता है लेकिन यह हरे रंग का नहीं होता।
  3. इन पौधों में क्लोरोफिल होता है लेकिन उसके साथ कुछ अन्य वर्णक भी होते हैं जो क्लोरोफिल के हरे रंग पर हावी होते हैं और पौधा लाल रंग दर्शाने लगता है।

आपको किस सम्भावना पर यक़ीन होता है? आप सही उत्तर कैसे पता लगाएँगे? आप क्या सवाल पूछेंगे? अपनी परिकल्पना का मूल्यांकन करने के लिए सबसे अच्छी पद्धति क्या होगी?


किलोग्राम में दूध क्यों बेचा जाता है? #

दूध एक तरल है, है ना? और तरल पदार्थ को लीटर में मापा जाता है। लेकिन हमारे देश में कई बार दूध किलोग्राम में क्यों बेचा जाता है?!

यह घनत्व की अवधारणा के बारे में जानने का एक शानदार अवसर है।

  1. लेकिन इससे पहले कि हम घनत्व के बारे में जानें हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम द्रव्यमान और मात्रा की अवधारणाओं से परिचित हैं। यहाँ कुछ संकेत दिए गए हैं -
    1. एक वस्तु का द्रव्यमान उस वस्तु में मौजूद सभी परमाणुओं के द्रव्यमान का कुल योग होता है। इसे किलोग्राम में मापा जाता है।
    2. एक वस्तु की मात्रा उस द्वारा घेरी गई जगह के बराबर होता है। इसे क्यूबिक इकाइयों (मीटर³ या सेमी³) में मापा जाता है। इसे लीटर में भी मापा जाता है - 1 लीटर = 0.001 मीटर³। इस जानकारी के साथ, क्या आप पता लगा सकते हैं कि 5 लीटर दूध की मात्रा मीटर³ में क्या होगी?
  2. अब घनत्व पर वापिस आते हैं। घनत्व द्रव्यमान को मात्रा से भाग करने पर पाई जाने वाली संकल्पना है। पानी का घनत्व 1000 किग्रा/मीटर³ है। यह जानने की कोशिश करें कि दूध का घनत्व क्या है। याद रखें, गूगल आपका मित्र है!
  3. यदि हम मान लें कि दूध का घनत्व लगभग पानी के समान है तो … 1 लीटर दूध का द्रव्यमान किलोग्राम में कितना होगा? अगर आप स्टेप 2 में बताए गए घनत्व के सूत्र को काग़ज़ पर लिख लें तो शायद मदद मिलेगी।

अब दूध का एक पैकेट ढूंढें और पढ़ें कि क्या इसकी मात्रा किलोग्राम में लिखी गई है या लीटर में?

इससे अब आप क्या समझते हैं? :)


आपका मोबाइल फोन कैसे जानता है कि आप कहां हैं? #

क्या आपने देखा है कि कैसे एक मोबाइल फोन नक्शे का उपयोग करके आपको एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचने में आपकी मदद करता है? आप बस लिख दें कि आप कहाँ जाना चाहते हैं और यह स्वचालित रूप से आपको बताता है कि वहां कैसे पहुँचा जाए। लेकिन आपका फोन यह कैसे जानता है कि आप कहाँ हैं?

  1. आपने शायद “जीपीएस” के बारे में सुना होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका मतलब क्या है? यह जानने की कोशिश करें कि GPS का पूर्ण रूप क्या है।
  2. जीपीएस अंतरिक्ष में उपग्रहों की मदद से काम करता है। क्या आप यह पता लगा सकते हैं कि जीपीएस के काम करने के लिए कितने उपग्रहों की आवश्यकता है?
  3. जब आप अपने फोन पर नक्शे खोलते हैं तो आपका फोन वास्तव में जीपीएस उपग्रहों में से किसी एक को संदेश भेजता है और फिर वो उपग्रह आपके फोन को बताता है कि आप नक्शे पर कहाँ हैं।

है ना कमाल की चीज़? अंतरिक्ष में इतनी दूर एक उपग्रह आपको आप जहाँ भी जाना चाहते हैं वहाँ ले जाने के लिए जिम्मेदार है!

यदि आप इस विषय के बारे में और जानने में रुचि रखते हैं तो आपके लिए यह कुछ सवाल हैं –

  • जीपीएस किसने बनाया? क्या यह हर किसी के लिए उपयोग करने के लिए मुफ़्त में उपलब्ध है? क्या लोग इसका गलत इस्तेमाल कर सकते हैं? उसको कैसे रोका जा सकता है?
  • क्या जीपीएस आपकी लोकेशन खोजने का एकमात्र तरीका है? क्या अन्य उपग्रह भी हैं जो ऐसा करते हैं?
  • क्या आप जानते हैं कि भारत ने हाल ही में अपना जीपीएस लॉन्च किया है? इसे NavIC कहा जाता है। इसके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए यह विडीओ देखें।


इन पोस्ट के साथ अपडेट रहने के लिए हमारे सोशल मीडिया हैंडल (पेज के नीचे लिंक) पर हमें फॉलो करें। अन्य संसाधनों के लिए नीचे Resources अनुभाग में देखें।

चाची

अन्य भाषा में पढ़ें:


कृपया अपने कॉमेंट में अपना नाम ज़रूर बताएँ!